Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. Subhadra, उच्च पद पर बैठे राजनीतिज्ञों के लिए बनी एक आदर्श - Nek In India

Subhadra, उच्च पद पर बैठे राजनीतिज्ञों के लिए बनी एक आदर्श

खम्मम के दूरस्थ गांव में नव-निर्वाचित सरपंच Karlapudi Subhadra इन दिनों प्रशंसा जीत रही है| अपने शब्दों को एक्शन में बदलकर, एक सच्चे नेता के रूप में उभरकर, वो उच्च पद पर बैठे राजनीतिज्ञों के लिए एक आदर्श बनी है।

पिछले दिनों गड्ढों से भरी सड़कों और उसी के प्रति आधिकारिक उदासीनता से परेशान होकर, Karlapudi Subhadra ने खम्मम ग्रामीण मंडल के मद्दुलपुरा गांव की सरपंच बनने के बाद, क्षतिग्रस्त सड़क की मरम्मत के लिए किसी का इंतजार नहीं करने का फैसला किया है। अपने पति वेंकटेश्वरलु के साथ, उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग पर खुद गड्ढों को भरा। खम्मम-हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित छोटे से गाँव को पहले, पूर्व मंत्री तुममला नागेश्वर राव ने गोद लिया था|

Subhadra, जिन्हें सीपीएम का समर्थन प्राप्त था, ने पहली बार टीआरएस पार्टी समर्थित जी नागमणि के खिलाफ 8 मतों के अंतर से ग्राम पंचायत चुनाव जीता है|

Karlapudi Subhadra
Photo : thefiscaltimes.com (Representable Image)

सीमेंट और धातु की चिप्स लेकर Subhadra ने क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत के लिए न केवल अपनी जेब से खर्च किया, बल्कि अपने पति के साथ वहां पर काम भी किया। ग्राम पंचायत से धन का इंतज़ार किए बिना, वो सबको अपनी प्राथमिकताएँ बताना चाहती हैं। ग्रामीणों ने पहले भी कई बार क्षतिग्रस्त सड़कों के बारे में अधिकारियों से अपील की थी, लेकिन कुछ नहीं हुआ|

इससे पहले, Subhadra और वेंकटेश्वर राव अपने घर के पास दुर्घटना पीड़ितों को प्राथमिक चिकित्सा प्रदान करते थे। लेकिन हाल ही में एक गड्ढे के कारण हुए हादसे में स्थानीय युवक एसके मौलाना की मौत ने उन्हें हिलाकर रख दिया है।
सूत्रों से बात करते हुए सुभद्रा ने कहा कि एक माँ होने के नाते, वो दूसरों की मदद का इंतज़ार प्रतीक्षा नहीं कर सकती हैं और इसलिए उन्होंने अपने पति से अपने खुद के दम पर गड्ढे भरने के लिए कहा|

वेंकटेश्वरलु ने कहा कि भले ही वो गरीब हैं, लेकिन लोगों के कल्याण के लिए हमेशा सबसे आगे रहेंगे। उनकी पत्नी एक दयालु महिला है और समस्याओं का सामना करने वाले लोगों के साथ सहानुभूति रखती है। Subhadra ने अपनी प्राथमिकताओं के बारे में बताते हुए कहा कि 1980 में इंदिरम्मा आवास योजना के तहत 30 घर बनाए गए हैं और वो घर ढहने के कगार पर हैं। उन्होंने कहा कि वो सरकार के साथ इस मुद्दे को उठाएगी और नए घरों को बनाने का प्रयास करेंगी|

#NekInIndia

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

Facebook Comments
(Visited 115 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: