Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. मुंबई की शौहरत छोड़ Nitin Sahrawat ने बसाई एक प्राकृतिक दुनिया - Nek In India

मुंबई की शौहरत छोड़ Nitin Sahrawat ने बसाई एक प्राकृतिक दुनिया

Nitin Sahrawat का जन्म देहरादून के एक highly qualified परिवार में हुआ था| देहरादून के हरे-भरे वातावरण में बचपन बिताने के बाद वो मेकॅनिकल इंजिनियरिंग करने के लिए कर्नाटक आ गये| इंजिनियरिंग का पहला साल ही बिता था कि उन्होनें मुंबई जाने का मन बना लिया| वो एक्टिंग और माडलिंग की फील्ड में करियर बनाना चाहते थे| उन्हें शौहरत मिलती गयी और जल्द ही उन्हें फेमस टीवी विज्ञापनों में काम करने का मौका मिल गया|

Nitin Sahrawat
Photo : wikilistia.com

लेकिन इस सफलता का स्वाद Nitin Sahrawat को ज़्यादा दिन रास नहीं आया| एक रात नींद ना आने की वजह से वो उठे और बिना किसी प्लान के मुंबई से बाहर जाने के लिए निकल पड़े| East की तरफ बढ़ते हुए वो राजस्थान के गाँवों में चार दिन तक घूमे| वहाँ की संस्कृति को पहचाना और वहाँ के भोले-भाले लोगों से मिलने के बाद उन्हें लगने लगा कि दुनिया बहुत प्यारी है| राजस्थान के बाद उन्होनें अपने शहर देहरादून जाने का प्लान बनाया|

Nitin Sahrawat
Photo : twitter.com

अपने दिल के सबसे करीब शहर जाने के लिए वो बहुत excited थे| लेकिन, देहरादून पहुँचते ही उनका ख्वाब मानों टूट सा गया| उनके मुताबिक उनका पूरा शहर बदल चुका था| जहाँ पहले हरे-भरे जॅंगल हुआ करते थे, वहाँ अपार्टमेंट्स के डब्बे दिख रहे थे| जब वो कॉलोनी में पहुँचे तो वो उन आम और लीची के उन बागों को ढूँडने लगे, जो उनके छुपने के अड्डे थे| लेकिन उन्हें वहाँ कुछ नहीं मिला और जो मिला वो building construction की धूल से दिख नहीं रहा था| मुंबई शहर से जिस सुकून की तलाश में वो यहाँ आए थे, वो तो खुद मुंबई बनने की कगार पर खड़ा था|

Nitin Sahrawat
Photo : TBI.com

तभी Nitin ने ठान लिया कि वो अपने शहर को उसकी खोई हुई पहचान वापिस ज़रूर दिलाएँगे| किसी एक्टर या सेलेब्रिटी के तौर पर नहीं बल्कि शहर के कर्ज़दार की तरह उन्होनें पेड़ लगाने का निश्चय किया| उनका मकसद वहाँ वास्तविक बदलाव लाना था| उन्होनें इसके लिए स्थानीय सरकार से मदद लेकर अपनी कॉलोनी में 50 पेड़ लगाने से अपने अभियान की शुरूवात की| पेड़ों को लगाने से लेकर उनकी देखभाल करने तक का पूरा ज़िम्मा उन्होनें खुद ही उठाया, ताकि वो उस खुशी को खुद महसूस कर सकें|

Nitin Sahrawat
Photo : facebook.com

उनका कहना है कि उनके इस काम में इंटरनेट बहुत मददगार रहा| अलग-अलग पौधों से जुड़ी जानकारी के लिए उन्होनें गूगल की मदद ली| इस तरह धीरे-धीरे उन्होनें खुद की पहचान रखने वाले बागों को फिर से हरा-भरा कर दिया| एक्टिंग की दुनिया से दूर होकर, उन्होनें एक लंबा वक़्त देहरादून को दिया| एक मिनी फॉरेस्ट तैयार करने के बाद उन्होनें अपने काम को और आगे ले जाने का ठान लिया|

Nitin Sahrawat
Photo : timesofindia.indiatimes.com

Nitin Sahrawat ने राज्य के मुख्यमंत्री से मिलकर उनके प्रशासन से खाली पड़ी सरकारी ज़मीनों और कॉलोनियों में पौधारोपण की अनुमति माँगी है| साथ ही अटल वाटिका नाम से वो, mixed vegetation वाला एक ख़ास बगान तैयार करने की भी सोच रहे हैं| उनका कहना है कि उनका एजेंडा बहुत साफ़ है और वो चाहते हैं कि वो आने वाली पीढ़ी के लिए कुछ कर के जाएँ|

#NekInIndia

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

Facebook Comments
(Visited 54 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: