Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. कवि Om Raizada पॉलिथीन के ख़िलाफ सालों से लड़ रहे हैं अकेले - Nek In India

कवि Om Raizada पॉलिथीन के ख़िलाफ सालों से लड़ रहे हैं अकेले

Environment conservation की तरफ कदम उठाते हुए योगी सरकार ने 15 जुलाई से पूरे प्रदेश में प्लास्टिक बैन का फैसला किया था| पॉलिथीन से होने वाले खतरे को लेकर काम करने वाले ग्रेटर नोएडा के Poet, Writer और Social worker Om Raizada, इससे काफ़ी खुश हैं| पॉलिथीन से होने वाले नुकसान से समाज को जागरूक करने के लिए वो सालों से ग्रेटर नोएडा में काम कर रहे हैं।

Om Raizada
Photo : twitter

लोगों के बीच इसका use रोकने के लिए Om Raizada लगातार awareness campaign चला रहे हैं| यही नहीं, वो इसके खिलाफ शहर से लेकर गांव तक banner उठाकर लोगों को समझा रहे हैं। पर्यावरण की सुरक्षा के लिए उनकी तरफ से उठाए जा रहे कदमों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस Environment Day पर उन्हें दिल्ली के विज्ञान भवन में invite किया था। नोएडा के local newspaper के अनुसार वो रोजाना हाथों में Go Green And Say No To Polythene का banner लेकर वो अकेले ही बाजार, स्कूल, मॉल में लोगों को समझाने के लिए निकल पड़ते हैं| साथ ही साथ वो लोगों को कपड़े के थैले भी बांटते हैं।

Om Raizada ग्रेटर नोएडा की ट्रेंड व बेरोजगार महिलाओं से घरों में इस्तेमाल होने वाले साधारण कपड़े के थैलों को बनवाकर, इसे भारत के हर घर में पहुंचाना चाहते हैं। जिससे पर्यावरण को ज़हरीला बनाने वाली पॉलीथिन का इस्तेमाल ख़त्म हो सके। वो चाहते हैं भारत का हर घर पुराने टाइम की तरह झोलों का इस्तेमाल करे। इसके लिए वो सिर्फ़ cost price पर बिना कुछ मुनाफा कमाए इन झोलों को भारत के सभी घरों को देंगे। उनका कहना है कि अगर ऐसा किया जाए तो पर्यावरण को जहरीला बनाने वाली पॉलिथीन का इस्तेमाल ख़त्म हो सकता है| वो इन थैलों को कई institutions व social workers के जरिए लोगों तक पहुंचाने का काम कर रहे हैं।

Om Raizada
Photo : youtube

Om Raizada यूपी के मैनपुरी जनपद के उपनगर भोगांव के रहने वाले हैं। इस समय वो ग्रेटर नोएडा में रहते हैं। Environment के लिए उनकी ओर से किए जा रहे काम को देखते हुए उन्हें पुलिस अधिकारियों ने भी सम्मानित किया। उन्हें यह सम्मान समर कैंप के दौरान बच्चों को environment conservation का interesting message देने के लिए दिया गया। समर कैंप के दौरान Raizada ने स्कूलों में जाकर पॉलिथीन और प्लास्टिक के side effects के बारे में बताया था। साथ ही उन्होंने बच्चों को environment favorable थैले भी दिए थे|

उन्होंने बताया कि पॉलिथीन का use करने की वजह से लोगों पर ज़िंदगी भर बीमारियों का ख़तरा मंडराता रहता है। नष्ट न होने की वजह से ये ज़मीन की fertility को भी खत्म कर रही है। साथ ही पॉलिथीन का कचरा जलाने से कार्बन डाईआक्साइड, कार्बन मोनोआक्साइड और डाईआक्सींस जैसी toxic गैस पैदा होती हैं। वो कहते हैं कि पर्यावरण को दूषित होने से बचाने के लिए कपड़े या जूट के बैग का इस्तेमाल सबसे अच्छा option है। उनका कहना है कि जब भी घर से बाजार के लिए निकलें, कपड़े या जूट का बैग साथ लेकर जाएं।

#NekInIndia

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

(Visited 28 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: