Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. Khetify लेकर आया छत पर खेती करने का आसान तरीका - Nek In India

Khetify लेकर आया छत पर खेती करने का आसान तरीका

बिज़्नेस शुरू करने के लिए पैसों की ज़रूरत होती है, लेकिन उससे भी ज़्यादा एक अच्छे idea की ज़रूरत होती है| आज की ये कहानी भी ऐसे ही 2 इंसानों की है, जिन्होनें अपने बेहतरीन idea ‘Khetify’ से अपना बिज़्नेस शुरू किया है|

IIT-Kharagpur के graduates Saahil Parekh और Kaustubh Khare ने 19 हज़ार रुपये से अपना ‘Khetify’ नाम बिज़्नेस शुरू किया| जहाँ आम लोगों को लगता है कि खेती सिर्फ़ बड़े-बड़े खेतों में ही हो सकती है, वहीं ये दोनों 200 square meters की छत पर ही सात-आठ सौ किलो सब्जियों की खेती कर रहे हैं| ये बात हैरान करने वाली है, लेकिन Khare और Parikh ने साबित कर के दिखाया है|

Saahil Parekh and Kaustubh Khare
Photo : redbull.com

Saahil Parekh और Kaustubh Khare जानते थे कि वो छत पर ज़्यादा पानी और मिट्टी का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं| इसलिए उन्होनें ऐसी तकनीक बनाई जिसमें पानी और मिट्टी का कम इस्तेमाल होता था| सबसे पहले उन्होनें छत पर खेती करने के लिए waterproof क्यारी बनाई, जिससे कि पानी छत से नहीं टपकता है|

Saahil Parekh and Kaustubh Khare
Photo : redbull.com

वहीं इन क्यारियों में fresh और tasty सब्जियां जैसे भिंडी, टमाटर, बैंगन, मेथी, पालक, चौलाई, पोई साग और मिर्च की खेती आसानी से हो सकती है| वहीं फसल की quality के लिए इसमें मिट्टी की बजाए नारियल का खोल यानी सूखा छिवका मिलाया जाता है| छत पर किसी भी तरह का बोझ न बड़े इसलिए मिट्टी का कम इस्तेमाल किया जाता है| साथ कुछ ज़रूरी elements मिलाए जाते हैं जिसकी मदद से फसल जल्दी बढ़ती है| Saahil Parekh और Kaustubh Khare को इस बिजनेस में काफी फायदा हो रहा है और अब वो मोटी कमाई भी कर रहे हैं|

Khetify
Photo : facebook

छत पर खेती उगाने के लिए के लिए hydroponic techniques का इस्तेमाल किया जाता है| फसल उगाने की इस technique में मिट्टी की जगह पानी लिया जाता है| इसके अलावा इसमें पानी का भी उतना ही इस्तेमाल किया जाता है, जितनी फसल को जरूरत होती है| पानी की सही quantity और सूरज की light से पौधे अपना development करते हैं| इसमें अलग-अलग चैनल बना कर nutrient-rich पानी पौधों तक पहुंचाया जाता है| इससे पौधों के लिए जरूरी nutrients को पानी के सहारे सीधे पौधों की जड़ों तक पहुंचाया जाता है|

Saahil Parekh and Kaustubh Khare
Photo : redbull.com

हमारे बच्चों को बाहरी हर चीज़ के बारे में पता होता है, लेकिन उन्हें अंदर की चीज़ों बारे में कोई जानकारी नहीं है और जो हम खाते हैं वो हमारे शरीर के अंदर भी जाता है| Team Khetify कहती है कि उन्हें लगता है कि हर इंसान के पास स्वस्थ समाज बनाने के लिए basic knowledge होनी चाहिए|

#NekInIndia

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

(Visited 41 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: