Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. 10 साल पहले घर से भागा Vishal Saini सकुशल पहुँचा घर - Nek In India

10 साल पहले घर से भागा Vishal Saini सकुशल पहुँचा घर

गुस्सा इंसान से क्या नहीं करवा देता है। वैसे तो ये हमारे लिए कितना नुकसानदायक है, कितना घातक है, कितना बुरा है, इसके बारे मे हमें अक्सर ही सुनने को मिल जाता है।

कभी बड़े-बुजुर्गों से, कभी किसी ज्ञानी से, तो कभी डाक्टर-हकीम से। सब यही कहते हैं कि गुस्सा मत करो, नुकसानदायक होता है, सेहत के लिए अच्छा नहीं होता, रिश्तों के लिए अच्छा नहीं होता। और वाकई, ये सारी बातें सच भी हैं। ऐसे ही गुस्से कि वजह से 10 साल के छोटे बच्चे Vishal Saini ने आज से दस साल पहले एक ऐसा कदम उठा लिया, जिसके बारे में उसके घर वाले, और विशेष तौर पर उसके पिता ने तो कभी सपने मे भी नहीं सोचा होगा।

चलिये आपको मामला शुरू से समझाते हैं। दरअसल Vishal Saini अपने माता-पिता के साथ रहते थे उत्तर प्रदेश के इटावा में। सब कुछ सही चल रहा कि एक दिन किसी बात पर विशाल के पिता ने उन्हे डांट लगा दी। अब अगर देखा जाये तो हमारे-आपके लिए यह बहुत ही छोटी सी, आम सी बात है। अब डांट तो हम सबने ही खायी है बचपन में। मगर यहाँ बात विशाल के लिए छोटी नहीं रही। उन्हे यह बात इतनी बुरी लगी कि उसने घर ही छोड़ दिया। ये सब हो रहा था 2008 में। अब Vishal बिना किसी को बताए घर से निकल चुके थे और एक ट्रेन पकड़ कर जा पहुंचे गुजरात के जामनगर। वहाँ से विशाल को Social Security विभाग वालों ने अपनी शरण में ले लिया और स्पेशल होम फॉर बॉय्ज़, राजकोट मे रहने के लिए भेज दिया।

Vishal Saini
Photo : (representable image)

अब Vishal Saini के गुस्से का आलम ये था कि पुछने पर भी वो अपने घर का सही पता नहीं बता रहे थे। Social Security विभाग के ऑफिसर कनक सिंह जला कहते हैं कि शायद विशाल छोटे होने के कारण पूरा पता नहीं बता पा रहे हो। बहरहाल, 10 साल बीतने के बाद अभी कुछ दिनों पहले जब विशाल ने Social Security विभाग वालों को यह बताया कि वो इटावा, उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं, तब जा कर उनके परिवार को ढूँढने की कवायद तेज़ कर दी गयी और आखिरकार विशाल अपने परिवार से वापस मिल पाये।

Vishal Saini के पिता महेन्द्रभाई अपने बेटे के वापस मिलने पर बहुत खुश हैं और वो गुजरात एवं उत्तर प्रदेश, दोनों ही राज्यों के अधिकारियों को बहुत धन्यवाद करते हैं। उनका यह भी कहना है कि उन्होने तो विशाल के वापस आने की सारी उम्मीदें छोड़ दी थी। उनके लिए अपने बेटे का वापस आना किसी चमत्कार से कम नहीं है।

वाकई, ये वाक्य हमे भी किसी चमत्कार सरीखा ही लगता है। हम उम्मीद करते हैं कि अब Vishal और उनका पूरा परिवार मिलजुल कर और खुशी से रहे। नेक इन इंडिया की तरफ से हम उनके लिए यही कामना करते हैं।

#NekInIndia

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

Facebook Comments
(Visited 40 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: