Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. K Jayaganesh ख़ाना खिलाकर बने एक सफ़ल IAS officer - Nek In India

K Jayaganesh ख़ाना खिलाकर बने एक सफ़ल IAS officer

हर सफलता कोशिश करने के निर्णय से शुरू होती है| ठीक यही किया K Jayaganesh ने, जो कि अपना IAS बनने का सपना पूरा करना चाहते थे| K Jayaganesh 6 बार फैल हुए और अपने 7th attempt में उन्होनें IAS क्लियर किया, जो कि उनका आख़िरी chance था| उन्होनें अपनी पूरी कोशिश की और कभी उम्मीद नहीं छोड़ी| लेकिन, सिर यही बात उन्हें प्रेरणादायक नहीं बनाती है| अपना सपना पूरा करने के लिए उन्होनें ना केवल अपने 7 साल समर्पित किए, बल्कि IAS बनने के लिए एक वेटर का काम भी किया|
K Jayaganesh का जन्म Vellore डिस्ट्रिक्ट के विनवमंगलम नाम के एक छोटे से गाँव में हुआ| उनके पिता कृष्णन एक चमड़े की फॅक्टरी में सूपरवाइज़र के रूप में काम करते थे और उनकी मां गृहिणी थी।

K Jayaganesh 
Photo : youtube.com

10th क्लास के बाद उन्होंने पॉलिटेक्निक कॉलेज में अड्मिशन लिया| K Jayaganesh,  91% के साथ पास हुए और उन्हें योग्यता पर सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज में अड्मिशन पाने का मौका मिला। इसलिए उन्होंने थानथई पेरियार गवर्नमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज में शामिल होकर मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की| इंजीनियरिंग के पूरा होने के चार दिनों के अंदर जयगणेश बैंगलोर चले गए और वहां उन्होंने अपनी पहली नौकरी 2500 रूपए की salary के साथ शुरू की| बैंगलोर जाने के बाद, उन्हें कई नई चीजों को सीखने का मौका मिला| उन्हें IAS exam के बारे में यहीं पता चला। इसके बाद ही उन्होंने एक IAS ऑफीसर बनने का फैसला किया।

K Jayaganesh 

K Jayaganesh पहले दो attempts में विफल रहे, क्योंकि उन्हें पता नहीं था कि exams के लिए तैयारी कैसे की जाती है| फिर वो वेल्लोर में उमा सूर्य से मिले, जो ख़ुद भी एग्ज़ॅम्स के लिए तैयारी कर रहे थे। उमा सूर्य ने उन्हें बहुत कुछ सिखाया| तीसरे attempt में विफल होने के बाद, जयगणेश ने सरकारी कोचिंग सेंटर के लिए entrance exam दिया, जहां उनका सेलेक्षन हो गया| उन्हें accommodation और ट्रैनिंग दी जा रही थी| लेकिन मुफ़्त रहना और खाना सिर्फ़ main examination तक दिया गया था। तो, जयगणेश ने एक पार्ट टाइम जॉब की तलाश करने का फैसला किया ताकि वह पढ़ाई करने के लिए समय निकाल सके। ये वही वक़्त था जब उन्होंने एक कैंटीन में वेटर के तौर पर काम किया।

K Jayaganesh 

छह बार असफल रहने के बाद भी K Jayaganesh ने हार नहीं मानी| ये उनका 7th attempt था, जो कि IAS के लिए पेपर देने का उनका आखिरी मौका था| के जयनेश्वर ने भारत में सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक को पास किया और 700 से ज़्यादा सेलेक्टेड candidates में से 156 वां रैंक हासिल किया। K Jayaganesh , जबरदस्त आत्मविश्वास के साथ एक भावुक व्यक्ति हैं, जो हर किसी को प्रेरित करते हैं और हमें सिखाते हैं कि जीवन में कभी हार नहीं माननी चाहिए|

#NekInIndia

Facebook Comments
(Visited 36 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: