Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. Excess food को भूखों तक पहुँचा रहे हैं Chandra Sekhar Kundu - Nek In India

Excess food को भूखों तक पहुँचा रहे हैं Chandra Sekhar Kundu

भारत दुनिया के सबसे ज़्यादा आबादी वाले देशों में से एक है| दुर्भाग्य से ऐसी बड़ी आबादी के साथ बड़ी मात्रा में गरीबी होती है, जिसमें कई नकारात्मक दुष्प्रभाव होते हैं, जिनमें भूख सबसे बड़ी समस्या है| सौभाग्य से, कई लोग इस समस्या से निपटने के लिए अलग-अलग तरीकों से काम कर रहे हैं और यह कहानी उन्ही में से एक है।
Chandra Sekhar Kundu, Food, Education और Economic Development (FEED) के फाउंडर हैं, एक ऐसा NGO जो गरीबी उन्मूलन और शिक्षा और समाज के विकास के लिए काम करता है| पश्चिम बंगाल के आसनसोल  में एक प्राइवेट institution के एक टीचर ने यह आंदोलन शुरू किया, जब उन्होंने देखा कि भारी मात्रा में खाना उनके कॉलेज की कैंटीन और हॉस्टल में लगातार बर्बाद हो रहा था। इसे रोकने के लिए, छात्रों की एक टीम के साथ, उन्होंने एक शॉर्ट फिल्म “Stop Food Wastage” बनाई, जो बहुत famous हो गयी, जिससे उनके कॉलेज में खाना बर्बाद होना काफ़ी कम हो गया|

Chandra Sekhar Kundu
Photo : indiamantra.com

बाद में Food Corporation of India से यह पता चलने पर कि पिछले दो सालों में लगभग 22,000 करोड़ टन अनाज बर्बाद हो गया है, Chandra Sekhar ने फैसला किया कि वह एक बड़े पैमाने पर काम करेंगे| दो स्टूडेंट्स के साथ, उन्होंने एक hostel manager से बात करके, excess food इकट्ठा करके, उसे गरीब बच्चों के बीच बाँटना शुरू कर दिया। इसके बाद उन्होंने कुछ तस्वीरें पोस्ट कीं जो जल्दी से वायरल हो गईं और कई लोग उनकी मदद करने के लिए प्रेरित हुए|

Chandra Sekhar Kundu

Chandra Sekhar Kundu और उनके कुछ स्टूडेंट्स ने canteens, cafeterias और आसपास के restaurants के मालिकों को convince किया कि वे regular excess food को दान करें, ताकि उसे वो लोग under-privileged बच्चों और बुजुर्गों को हफ़्ते में चार बार बाँट सकें| लाभार्थियों में ज्यादातर भिखारी और सड़क पर रहने वाले हैं। संदेश फैलाने के लिए फेसबुक पेज बनाने के अलावा, टीम ने तीन short फिल्में बनाईं, जिन्होनें भोजन की बर्बादी को और उसे कम करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को highlight किया|

Chandra Sekhar Kundu
Photo : intoday.in

Chandra Sekhar Kundu ने एक हॉटलाइन भी शुरू की है जिससे लोग अपने अतिरिक्त बचे खाने को उठाने के लिए कॉल कर सकते हैं और जिसे ज़रूरतमंद local communities को बाँटा जा सकता है| इसी बात से inspire होके आईआईटी खड़गपुर के students ने भी अपने हॉस्टल में रेग्युलर बर्बाद होने वाले खाने को कम करने के लिए एक समान पहल की शुरुआत की है। शादियों, कार्यक्रमों और अन्य कार्यक्रमों में केटर्स को भी Food, Education और Economic Development (FEED) volunteers की संख्या दी गई है। अगर किसी event के बाद उनके पास बिना खाया हुआ खाना बचता है, तो उन्हें उन सभी volunteers को सूचित करना होगा जो उसके बाद वहाँ आते हैं, ख़ाना इकट्ठा करते हैं और भूखे लोगों को सड़कों पर खाना बाँटते हैं। कोलकाता में दो कंपनियों की कंपनियों ने कोलकाता के छात्रों के साथ tie-up भी किया है। उनकी ऑफीस की कैंटीन से बचा हुआ खाना Gariahat में, सड़क के लोगों के बीच बाँटा जाएगा|

Chandra Sekhar Kundu
Photo : facebook

धीरे-धीरे बढ़ते उनके इस कदम के बारे में पूछे जाने पर वह कहते हैं कि देश के कचरे को खाने से शर्मिंदा नहीं होने देना चाहिए| इस बात के लिए सब honest हो जायें तो तब लगेगा कि हमने problem और उसका solution सच में ढूंड लिया है|

#NekInIndia

Facebook Comments
(Visited 35 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: