Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. घर-घर साड़ियाँ बेचने वाला Biren Basak आज है 50 crore की कंपनी का मालिक - Nek In India

घर-घर साड़ियाँ बेचने वाला Biren Basak आज है 50 crore की कंपनी का मालिक

1962 में, अपने इलाके में सांप्रदायिक तनाव ने Biren Basak के परिवार को Tangail से Phulia आने पर मजबूर किया था, जहां उनके कुछ रिश्तेदार रहते थे। Biren कहते हैं कि वह लोग रात के दौरान भागे क्योंकि दिन के दौरान बाहर निकलना जोखिम भरा था। वह, उनके बड़े भाई और माता-पिता यहाँ आ गये क्योंकि उनके परिवार के कुछ अन्य लोग पहले ही वहाँ आ चुके थे|
उन्हें आज भी याद है कि border cross कर के Alipurduar, North Bengal पहुँचने तक उनके पिता के पास पैसे ख़त्म हो गये थे| Biren के गले में एक सोने की चैन थी, जिसे बेच कर उनके पिता ने खाना arrange किया था|

Biren Basak
Photo : newsfromnadia.com

Financial condition खराब हो जाने की वजह से Biren अपनी पढ़ाई जारी ना रख सके| Phulia, weavers का hub था और उन्होनें एक लोकल यूनिट में साड़ी की बुनाई शुरू कर दी, जिससे हर दिन वह 2.50 रुपये कमाने लग गये| अगले 8 सालों तक, परिवार की आय को पूरा करने के लिए उन्होनें एक ही factory में काम किया|
1 9 70 में उन्होंने अपना खुद का business शुरू करने का फैसला किया और 1968 में Phulia में अपने भाइयों में से एक को घर गिरवी रखकर 10,000 रुपये का उधार ले लिया| अपने बड़े भाई Dhiren Kumar Basak के साथ, उन्होंने बिक्री के लिए साड़ियों के बंडलों को कोलकाता ले जाना शुरू कर दिया| Biren बताते हैं कि local weavers से साड़ियाँ खरीद कर वह लोग उन्हें बेचने के लिए कोलकाता ले जाते थे|

Biren Kumar Basak
Photo : birenkumarbasak.com

हर रोज सुबह 5 बजे शहर के लिए वह लोकल ट्रेन पकड़ते थे और कंधों पर करीब 80-90 किलोग्राम के भार के साथ घर-घर घूमते थे| अक्सर वह लोग कई-कई किलोमीटर चला करते थे और देर शाम घर आकर फिर सुबह को निकल जाते थे|
हालांकि, उन्हें उनकी कड़ी मेहनत का अच्छा फल मिला और ग्राहक उनकी साड़ी की अच्छी क्वालिटी और कम कीमत के कारण उनके पास आने लगे| Client base बढ़ने लगा था और उनके पास अच्छे-ख़ासे orders आने लगे| 1978 तक दोनों भाइयों ने मिलकर लगभग Rs.50,000 प्रति महीने की कमाई शुरू कर दी थी|
1981 में दोनों ने South Kolkata में लगभग 5 लाख रुपये की लागत से 1,300 वर्ग फुट की जगह खरीदी। 1985 में उन्होनें Dhiren and Biren Basak and Company नाम से दुकान खोली और वहाँ से साड़ियों को बेचना शुरू कर दिया| अगले एक साल में उनकी दुकान का कारोबार लगभग 1 करोड़ रुपये हो गया|

Biren Kumar Basak
Photo : birenkumarbasak.com

जल्द ही भाइयों ने अपना-अपना हिस्सा लेने का फ़ैसला कर लिया और 1987 में Biren, Phulia लौट आए| उनके पास savings में 70-80 लाख रुपये थे| वह अपने गांव में लौट आए क्योंकि उन्हें ग्रामीण जीवन से प्यार था और वह सिर्फ कोलकाता में आजीविका के लिए ही रहते थे| मेरे भाई के साथ मिलन समाप्त होने के बाद, उन्होनें अपनी जड़ों में लौटने का फैसला लिया|
उन्होंने एक साड़ी wholesaler बनने का फैसला किया क्योंकि उनके पास हमेशा से एक creative mind था और उन्हें साड़ियों को डिजाइन करना पसंद था| उनकी वापसी के तुरंत बाद 1987 में, उन्होंने अपने घर में 8 staff members के साथ खुद की दुकान, Biren Basak and Company की शुरूवात की|

Biren Kumar Basak
Photo : theweekendleader.com

2016-17 में उनकी फर्म ने लगभग 50 करोड़ रुपये का सालाना कारोबार किया लेकिन वह अभी भी अपने कारोबार का पहला दिन याद करते हैं, जब उन्होंने अपनी पहली साड़ी 60 रुपये में बेची थी|
Biren ने 1977 में शादी की और उनकी पत्नी Bani का बड़ा support रहा है| उनका एक बेटा है, Abhinaba (27), जिसने अभी अपने पिता के business में कोई कदम नहीं उठाया है|
इस entrepreneur ने 2013 में सेंट्रल मिनिस्ट्री ऑफ टेक्सटाइल द्वारा सम्मानित Sant Kabir Award सहित कई पुरस्कार जीते हैं। उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण से भी ज्यादा, वे अपनी सफलता का श्रेय भगवान को देते हैं और उनकी निरर्थक आध्यात्मिकता अब भी उनके जीवन का केंद्र है|

#Nekinindia

(Visited 132 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: