Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. बच्ची के पैदा होने पर तोहफे में यह barber देता है बच्चियों को free Mundan और पिता को free shave facility - Nek In India

बच्ची के पैदा होने पर तोहफे में यह barber देता है बच्चियों को free Mundan और पिता को free shave facility

Marathwada के Beed district का sex ratio बहुत खराब है और female foeticide यहाँ एक बड़ी चिंता है| Kumbhephal, Beed का एक गाँव है जो कि illegal sex determination tests और female foeticides के लिए जाना जाता है| 29 साल का Ashok Pawar इसी गाँव में रहता है और वह चाहता है कि लोग लड़कियों के जन्म को लेकर अपनी धारणाओं को बदलें| उसका मानना है कि बदलाव इंसान के अंदर से खुद आना चाहिए और इसके लिए वह अपनी तरफ़ से पूरी कोशिश कर रहा है|

Ashok Pawar
Photo : indiatimes.in

Ashok Pawar गाँव में ही Ishvari Gents Parlor चलाता है| उसकी Shravani नाम की एक साल की बेटी है| उसका मानना है कि Shravani उसके लिए बहुत lucky है क्यूंकी उसी के जन्म के बाद ही उसके पास इतना पैसा आया कि उसने अपनी खुद की दुकान खोल ली| इसी पहले वह 6 सालों से किसी और की दुकान में हेलपर का काम करता था| Pawar अपनी दुकान से family के खाने का गुज़ारा कर लेता है| उसके पास इतना पैसा नहीं है कि वह bike ख़रीद सके इसलिए हर दिन अपनी दुकान तक 3km पैदल चल कर जाता है|

Ashok Pawar
Photo : indiatimes.com

बेटी के पहले birthday पर 1st January को उसने अपनी बेटी के लिए कुछ अलग करने का सोचा| उसने लोगों को offer दिया कि जिसके भी घर में बेटी पैदा होगी वह उसकी दुकान पर आकर free shave और haircut करवा सकता है| और यह ऑफर लड़की के जन्म लेने के 6 महीने बाद से शुरू होगा| सिर्फ़ इतना ही नहीं, जब वह लड़की एक साल की हो जाएगी तब वह फ्री में उसका मुंडन भी करेगा|

Ashok Pawar
Photo : indiatimes.in

दुकान छोटी होते हुए Ashok मुश्किल से manage करता है| उसने अपनी दुकान के बाहर एक board लगाया है जिसमें बड़ी शान से उसने अपनी scheme लिखी है और अभी तक वह गाँव के 15 आदमियों को यह free scheme दे चुका है| उसके इस अद्भुत काम को जानकार आस-पास के गाँव के लोग भी उसकी इस scheme का लाभ उठाने उसके पास आते हैं|

Ashok Pawar
Photo : booknaai.com

उसका मानना है लोग लड़कियाँ इसलिए नहीं पालना चाहते कि आगे चलकर उनका खर्च केसे उठाएँगे| इसलिए वह लोगों का कुछ खर्चा कम करना चाहता है ताकि लोग घर में पैदा हुई लड़की का स्वागत अच्छे से करें| उसने अपनी दुकान का नाम अपनी भतीजी के नाम से रखा है| उसके गाँव के लोगों का मानना है कि वह Beti Bachao अभियान को आगे ले जा रहा है|

Facebook Comments
(Visited 61 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: