Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. Accident victims और disabled के लिए किसी भगवान से कम नहीं यह Auto driver - Nek In India

Accident victims और disabled के लिए किसी भगवान से कम नहीं यह Auto driver

Prabhat Pradhan एक ऐसे इंसान हैं जिन्हें लोगों के ट्रेंड से अलग दिखना पसंद है| जहाँ ज़्यादातर लोग ग़रीबों और लाचारों को लिफ्ट देना पसंद नहीं करते, यह 42 साल का autorikshaw-driver उन्हें घुमाता है वो भी बिल्कुल free|
जो लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट का खर्च नहीं उठा सकते, उनके लिए Prabhat किसी मस्सियाह से कम नहीं| पिछले 20 सालों में आजतक वह 7,000 से ज़्यादा लोगों को free ride दे चुके हैं| उनका एक ही मंत्र है और वह उनके ऑटो में लिखा है ‘”Work Is God, शारीरिक विकलांग, बूढ़े और accident के शिकार लोग मेरे ऑटो में फ्री में जा सकते हैं|”

Prabhat Pradhan
Source : incredibleorissa.com

Prabhat, Cuttack के Niali में रहते हैं और काम के लिए रोज़ Bhubaneshwar आते हैं| हर दिन कुछ वक़्त वह उन लोगों के लिए निकालते हैं जो लोग मदद चाहते हैं| हर दिन 2-4 ज़रूरतमंद लोगों को वह free में सवारी करवाते हैं| लेकिन हर किसी को वह फ्री ride नहीं देते हैं| ऑटो ही उनकी कमाई का एकमात्र साधन है| हर दिन वह लगभग 500रु कमाते हैं|
उनका ज़रूरतमंद लोगों को फ्री सवारी कराने का सफ़र 20 साल पहले शुरू हुआ जब एक दिन घर जाते वक़्त रास्ते में हुए एक accident में एक आदमी आस-पास खड़ी भीड़ से मदद माँग रहा था पर किसी ने उसकी मदद नहीं की| Prabhat को जल्दी कहीं पहुँचना था इसलिए वह भी वहाँ नहीं रुका| बाद में पता चला कि मदद माँगने वाला आदमी मर गया|
इस incident ने Prabhat को सोचने पर मजबूर कर दिया| इसलिए उन्हें ज़रूरतमंदों को free में ऑटो में बिठाना नहीं खलता है| वह अपने दोनों बच्चों को पढ़ा रहे हैं| उनकी पत्नी भी उन्हें लोगों को फ्री ऑटो ride के लिए कभी माना नहीं करती है| बल्कि उनका मानना है कि भगवान उनकी मदद करेगा|
उनके पढ़ोसी भी Prabhat की तारीफ़ करते नहीं थकते| उनके अनुसार प्रभात हमेशा ज़रूरतमंदों की मदद करता है|और इस ज़माने में उसके जैसा इंसान मिलना मुश्किल है|

Facebook Comments
(Visited 31 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: