Nek In India - Positive News, Happy Stories and Inspiring People. Bhule Bhatke Baba ने मिलाया है हज़ारों लोगों को उनके परिवार वालों से - Nek In India

Bhule Bhatke Baba ने मिलाया है हज़ारों लोगों को उनके परिवार वालों से

Raja Ram Tiwari उस वक़्त 18 साल के थे जब पहली बार उन्होनें 1946 में अलाहबाद के संगम तट पर कुंभ मेला देखा औरउसी वक़्त उन्हें खोए हुए लोगों को मिलाने का idea आया|

NII97.jpg
उस वक़्त कुंभ मेला हर तीसरे साल मनाया जाता था और बूढ़े लोग इसमें ज़्यादा संख्या में जाते थे| अपने पहले मेला दर्शन के वक़्त Tiwari ने देखा कि एक बूढ़ी महिला बहुत ज़ोर-ज़ोर से रो रही है और एक जवान लड़का टिन का भौपु लेकर ज़ोर-ज़ोर से उसके परिवार वालों को तब तक आवाज़ लगाता रहा जब तक वह अपने परिवार वालों से नहीं मिली|

NII95
इस घटना ने Tiwari के idea को और ज़्यादा बढ़ावा दे दिया और उन्होनें “खोया पाया शिविर” नाम से श्रधालुओं को ढूँडने वाला कैंप शुरू कर दिया|

NII96
उन्होनें लगभग 10 लाख लोगों और 20,000 बच्चों को उनके परिवार वालों से मिलाया| उन्होनें अपनी इस पहल में बहुत से स्वयंसेवकों को भी जोड़ा ताकि काम आसान हो जाए और आज लगभग 150 से ज़्यादा लोग उनके इस कैंप से जुड़ चुके हैं|

NII100.jpg
आज लोग भाई को भाई से अलग करने में लगे रहते हैं पर तिवारी प्रेरणा हैं ऐसे लोगों के लिए जो दूसरों की खुशी के लिए जीते हैं और उनका घर तोड़ते नहीं, बल्कि बनाते हैं|

Photos Credit : Taken from Google.

(Visited 34 times, 1 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook

SuperWebTricks Loading...
%d bloggers like this: